>local news, सिरसा समाचार

15 जून

>

समाज सेवा सबसे बड़ी सेवा है इससे बढ़कर और कोई सेवा नहीं है
सिरसा
, 15 जून। समाज सेवा सबसे बड़ी सेवा है इससे बढ़कर और कोई सेवा नहीं है इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को समाज हित के लिए कार्य करना चाहिए व महापुरूषों के बताए गए मार्ग पर चलना चाहिए । उनके आदर्शो को अपने जीवन में अपनाकर स्वयं को महान व्यक्तित्व बनाने का प्रयास करना चाहिए।
    ये शब्द स्थानीय निकाय,उद्योग, वाणिज्य एवं गृह राज्य मंत्री श्री गोपाल कांडा ने आज स्थानीय एडिशनल अनाज  मण्डी  में संत शिरोमणि सतगुरू कबीर समिति द्वारा आयोजित सतगुरु कबीर जयंती समारोह के अवसर पर व्यक्त किए। इससे पूर्व श्री क ांडा ने कबीर चौक पर स्थापित संत कबीर दास की प्रतिमा का अनावरण किया। उन्होंने कहा कि मैं समाजसेवा के लिए ही राजनीति में आया हूं। उन्होंने कहा कि महापुरूष संत कबीर दास के संदेश को अपने दिल में उतार कर स्वयंहित से उपर उठकर समाज के विकास के  लिए कार्य करना चाहिए। उन्होंने कहा कि जब तक जीवन है वे सदैव साधु, संत व महात्माओं के बताए मार्ग पर चलकर सिरसा वासियों की व आमजन की निस्वार्थ भाव से सेवा करते रहेंगे।
    श्री कांडा ने कहा कि राजनीति जनसेवा का माध्यम है वे राजनीति से उपर उठकर जनहित के कार्य करवाएंगे। उन्होंने कहा कि सभी को आपस में मिल जुल कर  प्यार ,प्रेम व भाई चारे कि भावना को बरकरार रख कर  समाज के उत्थान के लिय कार्य करना चाहिए। उन्होने कहा कि संत कबीरदास जी समाज सुधारक थे। उन्होंने जात-पात व छुआछूत को मिटाने का कार्य किया और आमजन को जीने की राह दिखाई। उन्होंने कहा कि व्यक्ति के  सुधरने से समाज सुधरता है। त्याग, समर्पण व सांम्जस्य की त्रिवेणी से सिंचित सौहार्द जीवन का अमृत है। जीवन के इस नैसर्गिक पक्ष को संत कबीर ने सुक्षमता से चित्रित किया। उन्होंने कहा कि संत कबीर की बाणी में मानवीय सरोकार सर्वोप्रिय है तभी तो उनके दोहों में आज के ज्वलंत प्रश्रों के हल भी दिखाई देते हैं।
    उन्होंने कहा कि साच बराबर तप नहीं, झूठ बराबर पाप, जीवन मूल्यों के संकट के समय संत कबीर की प्रासंगिकता अधिक है। उन्होंने कहा कि युवा पीढ़ी को भी महापुरूषों से प्ररेणा लेकर समाज व राष्ट्र्र  के नवनिर्माण में अह्म््म भूमिका निभानी चाहिए। उन्होंने कहा कि कबीर जैसा अनाम कुल व्यक्ति किसी एक का नहीं होता बल्कि सभी का होता है। वे कभी अपने लिए नहीं बल्कि दूसरों के लिए जिए। इस मौके पर श्री कांडा ने कबीर समाज की धर्मशाला के लिए दो लाख 51 हजार रुपए देने की घोषणा की। कबीर चौक की सुन्दरता के लिए पचास हजार रुपए व गरीब परिवार की रेखा व ममता को मकान की छत बनाने के लिए 51 हजार रुपए देने की घोषणा की। सायं तीन बजे शोभा यात्रा निकाली जाएगी जो शहर के विभिन्न स्थानों से होती हुई कबीर धर्मशाला में पहुंचेगी जिसे गोबिन्द कांडा झण्डी दिखाकर रवाना करेंगे।
    श्री कांडा का गाजे-बाजे व पंजाब से आए मिल्टी बैंड द्वारा स्वागत करते हुए सभास्थल पर लाया गया। बड़ी फूलमालाओं के साथ स्वागत किया वहीं समाज की बहन बेटियों ने भी श्री कांडा को तिलक लगाकर सम्मान दिया। समारोह में महिला एवं पुरुष बड़ी संख्या में उपस्थित थे। समाज के लोगों ने श्री कांडा को स्मृति चिह्न व पगड़ी पहना कर सम्मानित किया। इस मौके पर कांग्रेस प्रदेश के प्रतिनिधि व मंत्री के अनुज गोबिन्द कांडा, उपमण्डलाधीश श्री रोशनलाल, प्रधान दरियाव सिंह, सुरेन्द्र नेहरा, शिल्पा वर्मा, रतनलाल बाल्मीकि, राजू लाडवाल, अंग्रेज बठला, कृष्ण, नरेश व सूरत सैनी, राजेन्द्र मकानी, सुरेन्द्र मिचनावादी, नवीन, ज्ञान सिंह गर्ग, राजेन्द्र जिंदल, भूपेश गोयल, शशि, धर्मपाल, बृजलाल, शंकर, शाम भारती, बाबा सोमनाथ, मनोहर सचदेवा सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी व क्षेत्र के गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

अरूण बांसल को ‘सुपर रेसÓ अवार्ड से सम्मानित किया गया
सिरसा,
15 जून । आईसीआईसीआई इंश्योरेंस कम्पनी के लिए जून माह के केवल मात्र 15 दिनों में पांच लाख से अधिक का प्रीमियम जमा करवाने के उद्देश्य को मद्देनजर रखते हुए आईसीआईसीआई कम्पनी के अधिकारियों द्वारा अरूण बांसल को ‘सुपर रेसÓ अवार्ड से सम्मानित किया गया। इस अवसर पर कम्पनी के एआरएम रणप्रीत वालिया, बीएम रोहित गुप्ता, डीएम विशाल सचदेवा, अमित गगनेजा, संजय बारिट, राज मेहता, अमृतपाल सिंह, अनिल, विजय शर्मा, संजय, नवीन मदान आदि उपस्थित थे। कम्पनी के एआरएम रणप्रीत वालिया ने बताया कि कम्पनी द्वारा इंश्योरेंस के अधीन आने वाली अनेक लाभकारी योजनाएं उपभोक्ताओं को उपलब्ध करवाई जा रही हैं। उन्होंने कहा कि इन योजनाओं का लाभ उठाने वाले अपने भविष्य को सुरक्षित कर सकते हैं, वहीं बच्चों व परिवार के प्रति अपने दायित्व की भी पूर्ति बिना किसी परेशानी के कर सकते हैं।

चंद्रग्रहण को लेकर नगर में आज दान-पुण्य का सिलसिला खूब चला
सिरसा
, 15 जून। चंद्रग्रहण को लेकर नगर में आज दान-पुण्य का सिलसिला खूब चला। लोगों ने जगह-जगह पर छबील लगाकर आने-जाने वाले राहगीरों को को शीतल जल और शर्बत पिलाया। वहीं चंद्रग्रहण को लेकर नगर में दोपहर के बाद मंदिर भी बंद रहे। लोगों ने इस दौरान विभिन्न स्थानों पर हलवे का प्रसाद और ब्रेड  पकौड़े की भी लोगों को बांटी। इस कड़ी में लालबत्ती चौक पर दुकानदारों की ओर से छबील लगाई गई। वहीं आर्य समाज रोड पर दुकानदारों ने राहगीरों एवं वाहन चालकों को हलवे का प्रसाद वितरित किया। इस दौरान लोगों ने खूब दान-पुण्य किया। 46 डिग्री के तापमान में लोगों ने सेवा कार्य किया और इतनी भयंकर गर्मी में गांव से आने वाले लोगों को शीतल जल और शर्बत पीकर काफी राहत मिली।

झगड़े व मारपीट मामले में सात आरोपियों को काबू किया
सिरसा
: कालांवाली पुलिस ने झगड़े व मारपीट मामले में सात आरोपियों को काबू किया है। जानकारी मुताबिक कालांवाली के वार्ड नंबर एक निवासी ओमप्रकाश पुत्र मान सिंह ने पुलिस को शिकायत दी थी कि उसे व उसके भाई शेरसिंह पर वार्ड के ही कुछ लोगों ने लाठियों वसरियों से हमला किया था। इस मामले में पुलिस ने काला पुत्र प्यारे लाल, सोनू व कालू पुत्र चिनार, धोली, सुखपाल व चिनार पुत्र गौकुल राम व विनोद पुत्र पप्पू को काबू किया है। आरोपियों को आज डबवाली अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें आज न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया। वहीं सदर सिरसा पुलिस ने सट्टा खाईवाली करने के आरोप में गांव मल्लेकां निवासी सुलखन पुत्र लालचंद को 440 रुपये की सट्टा राशि सहित काबू किया है।

नाबालिग लड़के की शादी रुकवाई
सिरसा
: बाल विवाह निषेध अधिकारी श्रीमती साधना मित्तल एडवोकेट व सदर थाना पुलिस ने एक नाबालिग लड़के की शादी रुकवाई। जानकारी मुताबिक गांव चक्कासाहिबा निवासी जसवंत (18 साल) पुत्र कश्मीरी लाल जो कि पांचवीं पास है व खेती बाड़ी का कार्य करता है, की शादी राजस्थान के गांव टिब्बी निवासी हरबंस लाल की पुत्री सरोजाबाई से 17 जून को होनी प्रस्तावित थी। इस बारे में सूचना मिलने पर बाल विवाह निषेध सैल ने सदर थाना पुलिस को सूचना देकर लड़के के परिजनों को सैल में बुला लिया, जहां गांव के चौकीदार के रजिस्टर के मुताबिक लड़के का जन्म 26 दिसम्बर 1992 को हुआ है। इस पर बाल विवाह निषेध अधिकारी श्रीमती साधना मित्तल ने लड़के के परिजनों को बाल विवाह के दुष्परिणाम बतलाए, जिस पर उन्होंने शादी टालने का लिखित में आश्वासन दिया।

संत कबीर जी की वाणी में मानवीय सरोकार सर्वोपरि: भूपेश
सिरसा
। परम संत एवं महान समाज सुधारक संत कबीर जी की वाणी में मानवीय सरोकार सर्वोपरि है। तभी तो उनके दोहों में आज की ज्वंलत समस्याओं का हल भी दिखलाई देता है। यह बात ब्लाक कांग्रेस कमेटी सिरसा शहरी के प्रधान भूपेश मेहता ने आज संत कबीर धर्मशाला में कबीर जी के प्रकटोत्सव पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहे। श्री मेहता ने कबीर जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हे अपने श्रद्धासुमन अर्पित किए तथा समाज के लोगों को कबीर की के पावन जन्मोत्सव की बधाई दी। उन्होने समाज के लोगों को कबीर जी द्वारा दिखलाए मार्ग पर चलने का आह्वान किया। इस अवसर पर श्री मेहता ने कहा कि कबीर जी ने अपना सपंूर्ण जीवन सामाजिक विषमताओं को मिटाने व जातिगत भेदभाव की भावना से उपर उठकर लोगों को एकसूत्र में बंधने का संदेश दिया। श्री मेहता ने कहा कि संत कबीर संत पहले थे तथा कवि बाद में। कबीर जी ने अपनी वाणी के माध्यम से पाखंड को नकारा। उन्होने कहा कि अगर कबीर जी की वाणी पर अमल किया जाए तो समाज में चौड़ी होती आर्थिक असमानता की खाई तथा चरम सीमा पर बढ़ रही बुराइयों का खात्मा किया जा सकता है। श्री मेहता ने कहा कि मुख्यमंत्री चौ. भूपेंद्र ङ्क्षसह हुड्डा व सिरसा के सांसद डा.अशोक तंवर  ने प्रदेश व जिला में कबीर जी के विचारों और आदर्शों पर चल रहे है तथा सभी वर्गोंे के कल्याण के लिए योजनाएं लागू कर रहे है। इस मौके पर संत कबीर धर्मशाला के प्रधान रत्न लाल बमनिया, बंसी कायत, भूप सिंह भंडोरिया, संजय बामनिया, धर्मवीर, रामदास बजाज, प्रेम सैनी, गिरधारी बागड़ी व अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे।

हस्तशिल्प अभिप्रेरणा शिविर का आयोजन
सिरसा,
15 जून। गायत्री एजूकेशन सोसायटी (रजि.) पानीपत द्वारा वस्त्र मंत्रालय भारत सरकार के सहयोग से बाबा साहेब भीम राव अम्बेडकर हस्तशिल्प विकास योजना के प्रति जागरूक करने के लिए अभिप्रेरणा शिविर का आयोजन श्री गुरू रविदास धर्मशाला, रानियां रोड में किया गया। शिविर में सहायक निदेशक कार्यालय विकास आयुक्त (हस्तशिल्प) वस्त्र मंत्रालय भारत सरकार (विपणन एवं सेवा विस्तार केन्द्र) रेवाड़ी से आए भैरव दत्त (एचपीओ) व बाबू दयाल शर्मा ने महिला शिल्पकारों के सर्वांगीण विकास हेतु विभाग द्वारा चलाई जा रही योजनाओं की विस्तारपूर्वक जानकारी देते हुए कहा कि महिलाएं अपनी शिल्पकला के आधार पर स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से छोटी-छोटी बचत करके अपना भविष्य संवार सकती है। उन्होंने कहा कि सभी हाथ की कढाई व पैचवर्क का कार्य करने वाली शिल्पी महिलाओं का सर्वेक्षण कर शिल्पी पहचान पत्र बनाएं जाएंगे तथा सभी महिलाओं को नि:शुल्क प्रशिक्षण दिलवाया जाएगा। प्रशिक्षण के बाद जो महिलाएं अपने घरों में सामान बनाएंगी उस सामान को विभाग द्वारा लगाई जाने वाली प्रदर्शनियों में बेचा जा सकेगा। आईसीआईसीआई लोम्बार्ड जनरल बीमा कम्पनी (करनाल) से आए दीपक बजाज (टीम लीडर) ने राजीव गांधी शिल्पी स्वास्थ्य बीमा योजना के अंतर्गत शिल्पी स्वास्थ्य कार्ड के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि इस योजना में शिल्पी के अतिरिक्त उसके परिवार के अन्य सदस्यों को भी स्वास्थ्य कार्ड का लाभ दिया जाएगा। जिला उद्योग केन्द्र, सिरसा से पहुंचे कार्यालय अधीक्षक अमरदास ने जिला उद्योग केन्द्र की ओर से चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं के बारे में बताया। सोसायटी की अध्यक्षा गायत्री देवी ने शिविर में पहुंचे गणमान्य व्यक्तियों को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। इस अवसर पर कलीराम पानीपत, पूनम मेहता, सुनीता रानी, आशा रानी, सीमा, संतोष रानी, गीता रानी, कमलेश रानी, विजय कुमार, गोपाल सहित सैकड़ों महिलाओं ने भाग लिया।

रिसालिया खेड़ा के जलघर में पानी की कमी
ओढ़ां

    गांव रिसालियाखेड़ा के जलघर में स्थित दो डिग्गियों में गाद और घासफूस भरा होने के कारण डिग्गियों में पानी जल्दी समाप्त हो जाता है और पूरे गांव में पर्याप्त मात्रा में जल सप्लाई नहीं हो पाता जिस कारण ग्रामीणों को पानी टैंकरों द्वारा 200 से 250 रुपए प्रति टैंकर मोल लेना पड़ता है। गांववासी सूरजपाल, प्रेम कुमार, मदनलाल, विनोद आचार्य, कृष्ण लाल, नरेश कुमार, डॉ. मनोज कुमार, अशोक कुमार, दलीप कुमार और प्रह्लाद सिंह आदि ने बताया कि जलघर में पानी की कमी होने पर गांववासियों को गांव बनवाला व रत्ताखेड़ा के जलघरों तथा बागवानी के लिए बनी हुई डिग्गियों से पानी लाना पड़ता है। उन्होंने बताया कि गांव में जल की सप्लाई तो दी जा रही है लेकिन वार्ड नंबर 8, 9 और 10 में एक सप्ताह से पानी की सप्लाई नहीं पहुंच पाई है जिसके कारण इन वार्डों के लोगों को भीषण जल संकट का सामना करना पड़ रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि जो जल गांव में सप्लाई किया जाता है उसमें भी नलकूप का पानी मिलाकर छोड़ा जाता है जिस कारण गांव में गठिया वाव की बीमारी फैल चुकी है तथा जलघर से सप्लाई हुए खारे पानी को पीने से बुखार व उल्टियों की शिकायतें बढ़ रही हैं। उन्होंने मांग की कि जलघर की डिग्गियों को साफ करवाया जाए और पूरे गांव में जल की सप्लाई सुनिश्चित की जाए ताकि इस भीषण गर्मी में लोगों को जल संकट से छुटकारा मिल सके।
    इस विषय में जनस्वास्थ्य विभाग के उपमंडल अधिकारी जगदेव सिंह से बात किए जाने पर उन्होंने बताया कि जलघर में बनी डिग्गियों की सफाई का कार्य ग्राम पंचायतों के जिम्मे है और ग्राम पंचायत ही मनरेगा के तहत डिग्गियों की सफाई करवाएगी। उन्होंने बताया कि पिछले महीने नहर बंद होने के कारण मजबूरी वश नलकूप का पानी मिलाकर सप्लाई किया गया अन्यथा नहर का पानी ही सप्लाई किया जाता है। उन्होंने कहा कि जिन वार्डों में पानी नहीं पहुंच पाता है उनके लिए जल्द की पानी पहुंचाने की व्यवस्था की जाएगी।
    इस विषय में गांव की सरपंच सुशीला देवी से बात किए जाने पर उन्होंने बताया कि जलघर में बनी डिग्गियों में यदि गाद व घासफूस ज्यादा है तो उनकी सफाई के लिए आगामी ग्रामसभा की बैठक में प्रस्ताव पारित करके एस्टीमेट भेजा जाएगा और राशी आने पर डिग्गियों की सफाई करवा दी जाएगी तथा गांव के हर वार्ड तक पानी पहुंचाया जाएगा।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: