>local news सिरसा समाचार

14 जून

>

लड़की के जन्म पर कुआं पूजन करवाया
रिसालिया खेड़ा, (प्रमोद रिसालिया)  बिज्जूवाली, (हेमराज बिरट)। शिक्षा और समृद्धि के साथ मनुष्य उदात्त होता है, यह आम धारणा है। लेकिन लड़कियों के प्रति भारतीय समाज का बनता नजरिया इस धारणा पर गहरी चोट करता है। भारतीय समाज में जन्म से पहले ही हत्या का शिकार हो रही बेटियां आमतौर पर वो हैं, जो सामान्यत शिक्षित और समृद्ध घरों में जन्म लेती है। लेकिन अब धारण धीरे-धीरे बदल रही है। कन्या के जन्म को कुल की लाज मानकर उसके जन्म को पर्व के रूप में मनाकर समाज को लिंगानुपात का भेदभाव खत्म करने का संदेश देने वाले परिवार बधाई के पात्र है। माँ की कोख का सम्मान करके हम समाज को नई राह दिखा रहे हैं।
ऐसी ही कहानी गांव रिसालिया खेड़ा के सुथार परिवार में जन्मी कन्या के जन्म पर कुआ पूजन कर समारोह मनाने वाले परिवार की है। सोमवार को बृजलाल मांडण के यहां जन्मी उनकी पौत्री का कुआं पूजन करवाया गया। एक माह पूर्व मोनिका पत्नी श्रवण कुमार ने एक कन्या को जन्म दिया था। कन्या की दादी सावित्री देवी, लाली दवी, दादा गोरवर्धन व उनके परिवार ने नवजात कन्या के जन्म की सभी परम्पराएं लड़के के जन्म की भांति मनाकर सोमवार को मांगलिक गीतों के साथ कुआ पूजन करवाया। इससे पहले जैसे ही कन्या के दादा बृजलाल और उनके परिवार को कन्या के जन्म की सूचना मिली तो घर खुशियों की लहर दोड़ गई। इतनी खुशी तो उनके पोते गौतम के जन्म पर भी नहीं हुई। कन्या के जन्म पर ढ़ोल-बाजे के साथ खुशियों का इजहार किया गया और पूरे गांव का मिठा मुंह करवाया गया। ऐसा ही सोमवार को जब कुंआं पूजन था तो पूरे गांव को भोजन का न्यौता दिया गया और पूरे गांव को भोजन करवाया गया। ऐसी खुशी में रिश्तेदार भी पीछे नहीं रहे और उन्होंने भी इस कुआं पूजन में शामिल हो कर खुशियों को चार गुना कर दिया। इस अवसर पर कन्या के दादा बृजलाला ने कहा कि आज ग टेम में छोरियां कीऊं कम कोनी। आज छोरियां छोरां ऊं कम कोनी चाहे खेल होव, नौकरी होव, आजकल तो छोरियां फौज मैं ही लागण लाग तो फेर छोरां और छोरियां मं फरक के रहैगो। कन्या के दादा ने कहा कि  छोरियां की रोज ही अखबार मं फोटो देखां छोरियां न मां-बाप गौ मान बढ़ायो। मार हिसाब हूं छोरियां छोरा कठ ही कम कोनी। 
गौरतलब है कि इस परिवार ने कुआं पूजन कर कन्या भ्रुण हत्या पर ही करारी चोट नहीं कि अपितु दहेज जैसे अभिशाप को भी मिटाने का काम किया है और गांव में ही नहीं पुरे जिले में एक अलग मिशाल पैदा कि है। गांव में आज भी बृजलाल मांडण का जिक्र होता है कि विवाह हो तो ऐसा हो। दर असल बृजलाल के सुपौत्रों कां विवाह फतेहाबाद के गांव मानावाली और हिसार के गांव बाडोपट्टी में हुआ था। उनकि दहेज की कोई मांग नहीं थी। जब लड़की वालों की तरफ से दिया गया तो एक रुपऐ उठाकर कहा कि उनके लिए तो कन्या ही सबसे बड़ा धन है। उसके बाद गांव में कई ऐसे परिवारों ने सराहनीय कदम उठाए।
इस अवसर पर गांव के सरपंच साहबराम कुलरिया, परिवार के सदस्य भगवाना राम, लक्ष्मणदास, सतपाल, प्रेम प्रकाश रिश्तेदार, मांगेलाल, सरोज, मखन लाल, प्रताप, गुलाब सिंह, सुभाष, विनोद, कमल तथा पूरे मांडण परिवार ने भी नवजात कन्या को आशीर्वाद दिया।
परीक्षाओं को शंतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न करवाने के लिए धारा 144 लागू करने के आदेश पारित किए

सिरसा,13 जून। जिलाधीश डा0 युद्धबीर सिंह ख्यालिया ने बताया कि चौ0 देवी लाल विश्वविद्यालय स्थित टेगौर भवन में आयोजित 15 जून से 30 जून तक होने वाली परीक्षाओं को शंतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न करवाने के लिए धारा 144 लागू करने के आदेश पारित किए है।  इन आदेशो के तहत परीक्षा केन्द्रों की 200 मीटर की परिधि में पांच या इससे अधिक व्यक्ति इक्टठा नहीं हो सकते और न ही  कोई भी व्यक्ति अनावश्यक रूप  से प्रवेश कर सकता है। केवल डयूटी करने वाले कर्मचारी व अधिकारी ही प्रवेश कर सकते है। परीक्षाओं के  नकल रहित संचालन के लिए परीक्षा केन्द्रो के पास सुरक्षा बल तैनात किया गया । आदेशो क ी अवहेलना करने वाले तथा असामाजिक तत्वों  के साथ सख्ती से निपटा जाएगा । परीक्षा केन्द्रो क ी200 मीटर की परिधि तक किसी भी व्यक्ति को  अस्त्र शस्त्र व अन्य किसी प्रकार के हथियार  साथ लेकर चलने पर पाबन्दी रहेगी और परीक्षा केन्द्रो के नजदीक फोटो स्टेट की दुकाने भी बन्द रहेगी। 
चौ0 देवी लाल विश्वविद्यालय सिरसा  में आयोजित परीक्षा 15 जून से शुरु होकर 30 जून को  सम्पन्न होगी।  परीक्षाओं  को शंतिपंूर्ण एवं बेहतर ढंग से सम्पन्न करवाने तथा जिला में शांति एवं कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए जिलाधीश डा0 युद्धबीर सिंह ख्यालिया ने नियमानुसार शक्ति का प्रयोग करते हुए अपराधिक प्रक्रिया 1973 के कानून धारा 144 लागू की है यह आदेश चौ0 देवी लाल विश्वविद्यालय   के लिए 30 जून तक लागू रहेगे । इन आदेशो के अनुसार कोई भी व्यक्ति घातक हथियार आग्रेय अस्त्र विस्फोटक  सामगा्री के साथ -साथ तलवार ,भाला,बरछा,चाकू व लाठी आदि हथियार लेकर नही चल सकता। ये आदेश डयूटी पर तैनात पुलिस व कर्मचारियों पर लागू नहीं होगे । इन आदेशो क ी अवेहलना करने वाले व्यक्तियों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जाएगी।
अपराधिक गतिविधियों को नियंत्रित करते हुए विभिन्न धाराओं के तहत 294 अभियोग दर्ज किए गए
सिरसा, 13 जून।   पुलिस विभाग द्वारा गत माह जिला में अपराधिक गतिविधियों को नियंत्रित करते हुए विभिन्न धाराओं के तहत 294 अभियोग दर्ज किए गए है । पुलिस  द्वारा विभिन्न चोरियों की गुत्थी सुलझाते हुए 9 लाख 92 हजार 100रुपए की चोरीशुदा संपत्ति भी बरामद करने में सफलता हासिल की। 
पुलिस अधीक्षक श्री सतेंद्र गुप्ता ने बताया कि आबकारी अधिनियम के तहत 15 अभियोग दर्ज किए गए जिसमें 413 बोतल शराब ठेका देसी, 15  बोतल बीयर बरामद की गई। 
उन्होंने बताया कि जिला में मादक पदार्थों की तस्करी पर लगाम कसने के लिए पुलिस टीम ने विभिन्न स्थानों पर छापा मारी की और नारकोटिक अधिनियम के तहत 11 अभियोग दर्ज किए गए जिसके तहत लगभग 121.200 किलो ग्राम चूरापोस्त, 3 कि0 ग्राम अफीम तथा शस्त्र अधिनियम के तहत 6 मामले दर्ज किए गए जिसमें 5 पिस्तौल, 1 कारतूस तथा एक दातर बरामद किए गए। 
श्री गुप्ता ने बताया कि जुआ अधिनियम के तहत 28 मामले दर्ज किए गए जिसके तहत विभिन्न स्थानों पर सट्टे खाईवाली करते हुए व जुआ खेलते लोगों से 33 हजार 785 रुपए की राशि बरामद की गई। 
प्रदेश की सामाजिक एवं आर्थिक व्यवस्था में पशुधन का स्थान सदैव प्रमुख रहा हैै 
सिरसा, 13 जून।  प्रदेश की सामाजिक एवं आर्थिक व्यवस्था में पशुधन का स्थान सदैव प्रमुख रहा हैै । इस प्रदेश के 60 से 65 प्रतिशत तक लोग कृषि के साथ- साथ  पशुपालन व्यवसाय से जुड़े  हैं। वर्ष 2007 में की गई पशु गणना  अनुसार हरियाणा में लगभग  90.93 लाख पशु हैं ।  उन्नत कृषि के साथ साथ पशुपालन पर भी सरकार द्वारा विशेष ध्यान दिया जा रहा है। पशुपालको को उनके घर द्वार पर पशु स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध करवाने केलिए सरकार ने 1725 पशु संस्थानों के भवनों का नवीनकरण व  निर्माण  किया गया है।  
इस सम्बंध मेंविस्तार से यह जानकारी देते हुए उपायुक्त डा0 युद्धबीर सिंह ख्यालिया ने बताया कि विभाग द्वारा पशुओं के रख् रखाव व पशुधन को बढ़ावा देने के लिए विभाग   द्वारा ठोस कदम उठाए जा रहे है।  उन्होंने बताया कि जिला  में बाढ़ से सम्भावित क्षेत्रों,गांवो  में पशु स्वास्थ्य सेवा प्रदान  करने के लिए एवं पशुओं को सुरक्षित रखने हेतु गत वर्षो की भंाति इस वर्ष भी कार्य को सुनिश्चित करने के लिए 29 विशेष टीमों की स्थापना की गई है।  इन टीमों के इंचार्ज सम्बंधित उपमण्डल अधिकारी, पशुपालन होगे और विशेष टीमों कें कार्य की समय समय पर समीक्षा करने हेतू चैंकिग करते रहेंगे। एस0बी0ओ0 सिरसा बाढ़ नियंत्रण अधिकारी होगे। उन्होंने बताया कि सभी टीमो के लिए आवश्यक वैक्सीन व दवाईयां सम्बधित पशु चिकित्सा केन्द्रीय भण्डार, राजकीय पशु चिकित्सा, सिरसा से प्राप्त करके वे टीमों को उपलब्ध करवायेगे। उन्होंने विभाग द्वारा गठित  सभी टीमों  को यह निर्देश दिए कि  वे अपने क्षेत्र में पशु स्वास्थ्य रक्षा हेतू संक्रामक रोगो गलघोटू, रानीखेत, शीपपॉक्स, ई0टी0वी0 इत्यादि के टीके लगााकर वैक्सीनेशन, डिवरमिंग आदि करके अपने इलाके के पशु  व पक्षियों को इन रोगो  से सुरक्षित कर लेवे। उन्होंने ये भी निर्देश दिए है  कि यह कार्य  विशेष अभियान के रूप में शुरू कर दें।  ताकि वर्षा ऋतु से पूर्व यह कार्य पूर्ण किया जा सके। 
डा0 ख्यालिया ने यह भी निर्देश दिए कि सभी टीमें पशु स्वास्थ्य कार्यो की रिपोर्ट  को  एक जुलाई से 15 जुलाई तक तथा दूसरी 16 जूलाई से 31 जूलाई तक नियमित रूप से पाक्षिक रिपोर्ट संलग्र प्रपत्र में अपने इंचार्ज के पास भेजते रहें तथा यह रिपोर्ट उपमण्डल अधिकारी, पशुपालन सिरसा के कार्यालय से संकलित होकर निम्रहस्ताक्षरी के कार्यालय में प्रस्तुत की जाये। उन्होंने कहा कि  बाढ़ से प्रभाावित पशुओं को तुरन्त आवश्यक चिकित्सा सुविधा मिलनी चाहिए इसके अतिरिक्त पशु चिकित्यालय, पशु ओषाधालय में दवाईयों तथा वैक्सीन पर्याप्त मात्रा में स्टॉक में उपलब्ध होनी चाहिए।
उपायुक्त ने निर्देश दिए कि पशुओं को कृमि रोग से सुरक्षित रखने हेतू पशुओं को कृमिनाशक ईलाज देना भी जरूरी है। तथा इस कार्यालय द्वारा बनाई गई टीमें प्रत्येक गांव में घूम-2 कर पशुओं को कृमिक रोगो का इलाज देना आरम्भ कर दे। इस बात का विशेष ध्यान रखा जाये कि पशुओं को कृमि नाशक दवाइयां केवल पशुपालको में बांटने से हमारे लक्ष्य की प्राप्ति नहीं होगी। अत: पार्टियो द्वारा दवाईयों पिलाने का कार्य अपने सामने ही करवाना उचित होगा। उन्होंने कहा कि उपरोक्त आदेशो का दृढ़ता से पालन किया जाये ।  सम्बधित पशु चिकित्या कार्य पूर्ण होने तक यह प्रमाणित करके भेजें कि उनके अधीन सभी गांवो में डिवरींग, वैक्सीनेशन का कार्य शत प्रतिशत का कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि बाढ़  नियंत्रण कक्ष  जुलाई से  स्थापित किया जायेगा तथा नियंत्रण कक्ष का दूरभाष नम्बर 01666-245007 है।
उल्लेखनीय है कि  राष्ट्र की अर्थ व्यवस्था में पशु पालन का योगदान अत्यंत  महत्वपुर्ण रहा है  । विश्व में भारत को न केवल बहुमूल्य  पशु -सम्पदा के स्वामित्व का गौरव प्राप्त है।  अपितु दुग्ध उत्पादन मेंभारत का विश्व मेें  प्रथम स्थान है । सामान्य अनुमानों के आधार पर पशुधन एवं पशु उत्पादों से  राष्ट्र को प्रति वर्ष 70 हजार करोड़ रूपए की आय होती है। बेरोजगारों को स्वरोजगार चलााने के लिए डेरी प्रशिक्षण दिया जाता है तथा ऋण भी उपलब्ध करवाया जाता है। ग्रामीण युवाओं को दुग्ध उत्पादन के क्षेत्र में  रोजगार प्रदान करने की योजना े तहत रिर्सोस प्रसन को एक हजार रूपए  बतौर प्र्रतिधारण राशि के रूप में दिए जाते है यादि वह दुध खरीद के वर्तमान स्तर को  बनाए रखता है। दुध की अतिरिक्त मात्रा होने पर गर्मी के मौसम में  35 पैसे प्रति लीटर तथा सर्दी के मौसम में  20 पैसे  प्रति लीटर के हिसाब से  भुगतान किया जाता है। 
मुख्यमंत्री चौ0 भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने गृह राज्य एवं स्थानीय निकाय मंत्री को मना लिया है
सिरसा, 13 जून : राज्य की राजनीति में कल एकाएक आया भूचाल सरकार और मुख्यमंत्री की समझदारी से थम गया है और मुख्यमंत्री चौ0 भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने गृह राज्य एवं स्थानीय निकाय मंत्री को मना लिया है। इस घटनाक्रम से जहां मुख्यमंत्री की सकारात्मक सोच का सार्थक परिणाम सामने आया है वहीं गृह राज्य मंत्री श्री गोपाल कांडा का मुख्यमंत्री के प्रति और विश्वास बढ़ा है और गोपाल कांडा को और अधिक ताकत मिली है। श्री कांडा वैसे भी किस्मत के धनी हैं और उन्हें साधु-संतों का आशीर्वाद प्राप्त है। जब-जब भी उनके सामने राजनीतिक व अन्य चुनौतियां आई हैं। उन्होने बड़ी सूझबूझ के साथ चुनौतियों पर पार पाते हुए ताकत हासिल की है। बात गत वर्ष 3 अप्रैल की हो या विपक्षी पार्टी द्वारा विधान सभा में उठाए गए बलात्कार में प्रयोग की गई उनके नाम की कार का मामला हो विरोधियों ने उन्हें समय समय पर मात देने की कोशिश की लेकिन इसके विपरीत गोपाल कांडा को और अधिक ताकत प्राप्त हुई है।  जब भी इस प्रकार की चुनौतियां सामने आई हैं  गोपाल कांडा ने सदैव विरोधियों को मात दी है। गोपाल कांडा का नाम उक्त दोनों मामलों में उच्च न्यायालय व राजभवन तक पहुंचा लेकिन विरोधियों को खाली हाथ लौटना पड़ा।
गोपाल कांडा की वैश्य समाज और सिरसा जिला में बढ़ती लोकप्रियता से बौखलाए उनके विरोधियों ने 11 जून के मुख्यमंत्री के सम्मान समारोह में अड़ंगा डालने की कोशिश की जिसके चलते कल का घटनाक्रम हुआ और गृह राज्य मंत्री के इस्तिफा देने व गाड़ी छोडऩे की अफवाहों का बाजार गर्म रहा। यह मामला मीडिया में विशेष चर्चित रहा। हरियाणा के एक वरिष्ठ मंत्री के बीच में आने से यह मामला सरकार द्वारा तुरताफुरती में संभाल लिया गया। इस मामले को लेकर जहां कांडा विरोधियों की बांछे खिलने लगी थी आज उनके चेहरों पर फिर मायूसी छा गई और कांडा खेमें में खुशी का माहौल व्याप्त है।
उधर श्री गोपाल कांडा ने विरोधियों द्वारा फैलाए जा रहे भ्रामक प्रचार पर विराम लगाते हुए मुख्यमंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा से नाराजगी का कठोर शब्दों में खंडन किया है। उन्होंने पूर्णत: हुड्डा के समर्थन में अपनी आस्था दोहराई है। यह भी स्पष्ट किया है कि विरोधियों द्वारा उनकी नाराजगी को लेकर फैलाई बातें बिल्कुल आधारहीन हैं। नाराज होने का कोई भी मतलब नहीं है। उन्होंने 8 जून को सिरसा में हुई प्रेस कांफ्रेस में भी स्पष्ट किया था कि वे इस पांच साल के कार्यकाल के अलावा आगामी पांच वर्ष भी श्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा का साथ देेंगे। उनकी भूपेन्द्र सिंह हुड्डा के प्रति आस्था किसी से छिपी नहीं है जब गत 29 दिसम्बर को श्री हुड्डा गोपाल कांडा के जन्मदिवस पर बधाई देने व आशीर्वाद देने आए थे। जन्मदिवस के समारोह में मुख्यमंत्री श्री हुड्डा ने स्वयं कहा था कि गोपाल उनके पुत्र समान हैं और वे गोपाल से जितना प्यार करते हैं वह बताने की आवश्यकता नहीं। 
बरसात से किसानों को फायदा हुआ
ढ़ां-आज सुबह ओढ़ां क्षेत्र में हुई 5-6 एमएम बरसात से किसानों को फायदा हुआ है और उनके चेहरों पर प्रसन्नता दिखाई देने लगी है। किसानों राजवंत सिंह चोरमार, जगराज सिंह जलालआना, रामप्रताप ओढ़ां, महेंद्र सिंह रोहिडांवाली, हरभजन सिंह घुकांवाली और बंसीलाल नुहियांवाली आदि ने बताया कि  इस बरसात से जहां एक ओर गर्मी के कारण झूलसती जा रही नरमा व कपास की फसल का बचाव हुआ है वहीं दूसरी ओर इससे ग्वार, बाजरा व मूंग की बिजाई करने में भी समय पर हो सकेगी। किसानों की नरमा कपास पिछले महीने दो बार आंधी व ओलावृष्टि से खराब होने के कारण किसानों को नए सिरे से नरमा की पछेती बिजाई करनी पड़ी लेकिन अब ग्वार, बाजरा, मूंग, मोठ व तिलहन की समय पर बिजाई होने से किसानों को फायदा होगा।
इस विषय में कृषि विकास अधिकारी सुभाष गोदारा से बात किए जाने पर उन्होंने बताया कि मौनसून से पूर्व हुई इस बरसात से किसानों की नरमा व कपास की गर्मी से झूलस रही फसलों को राहत मिली है। उन्होंने कहा कि ग्वार की फसल के लिए अब सही समय है अत: किसान ग्वार, बाजरा आदि की बिजाई करें।
छठी कक्षा में प्रवेश हेतु परीक्षा 10 जुलाई को
ओढ़ां-जवाहर नवोदय विद्यालय ओढ़ां में कक्षा छठी में प्रवेश के लिए गत 6 फरवरी 2011 को खंड स्तर पर आयोजित की जाने वाली प्रवेश परीक्षा जो उस समय किन्ही कारणों से नहीं हो पाई थी वो अब 10 जुलाई 2011 को आयोजित की जाएगी। यह जानकारी देते हुए विद्यालय के प्राचार्य डॉ. जी.के मिश्रा ने बताया कि प्रवेश परीक्षा के लिए यदि कुछ परीक्षार्थी रोल नंबर से वंचित रह गए हों तो वे अपना रोल नंबर जवाहर नवोदय विद्यालय ओढ़ां से प्राप्त कर सकते हैं।
चुल्हा टैक्स तुरंत प्रभाव से भरवाने के निर्देश
ओढ़ां-हरियाणा सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों में चुल्हा टैक्स फिर से लगाने का निर्णय लेते हुए चुल्हा टैक्स तुरंत प्रभाव से भरवाने के निर्देश दिए हैं। यह जानकारी देते हुए समाज शिक्षा एवं पंचायत अधिकारी ओढ़ां भूप सिंह ने बताया कि जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी सिरसा द्वारा 9 जून को जारी पत्र में दिए निर्देशानुसार ग्राम सचिवों के माध्यम से सभी ग्राम पंचायतों को सूचित कर दिया गया है कि चुल्हा टैक्स भरवाया जाए।
सरकार की वैज्ञानिक रिपोर्टों में बी टी कॉटन में जानलेवा हाईड्रोजन सायनाईड नामक ज़हर पाया गया है
हिसार 13 जून सरकार की वैज्ञानिक रिपोर्टों में बी टी कॉटन में जानलेवा हाईड्रोजन सायनाईड नामक ज़हर पाया गया है लेकिन फि र भी सरकार इस पर रोक ना लगा कर करोड़ों लोगों की जि़न्दगी से खेल रही है। यह जानकारी देते हुए बी टी कॉटन से हो रही लाखों जानवरों और लोगों की मौतों और गंभीर जानलेवा बीमारियों के विरोध में आज सुबह दो बजे से अपना अनिश्चितकालीन दैनिक 21 घंटों का मौन व्रत आरम्भ करने के बाद एक लिखित ब्यान में वरिष्ठ कृषि वैज्ञानिक डॉ0 सुधीर कुमार कौड़ा ने बताया कि बी टी कॉटन वैज्ञानिक रूप से जानलेवा सिद्ध हो चुकी है। 
डॉ0 कौड़ा ने बताया कि हिसार, भिवानी, फ तेहाबाद और जींद जि़लों में किये गये अध्ययन में पता चला है कि पिछले 2 से 4 वर्षों में जब से बी टी कॉटन आया है गाय, भैंस, भेड़, बकरी, आदि पशुओं की अचानक मौतें, गर्भपात, गर्भ ना ठहरना, दूध में कमी, दूध के स्वाद में बदलाव, बौने बच्चे पैदा होकर उनका जल्दी मर जाना, आदि अनेक समस्याएं आ रहीं है।  उल्लेखनीय है कि ये समस्याएं उन्हीं पशुओं में ज्यादा देखी जा रही हैं जो किसी ना किसी रूप बी टी कॉटन के पत्तों, टिण्डों (फ लों), खल्ल, बिनौलों (बीजों) आदि का चारा खाते है। जो पशु बी टी कॉटन का चारा नहीं खाते हैं उनमें  ये समस्याएं नहीं हैं। उन्होंने बताया कि बी टी कॉटन के खेत में चरने के बाद पशुओं में दस्त लगना, पेशाब में खून आना, चक्कर आना, खाना पीना छोड़ देना आदि लक्षण देखे जा रहे हैं और पशु कुछ घंटों या कुछ दिनों में मर जाता है। बी टी कॉटन के कारण पशुओं की समस्याओं के चलते बहुत से किसानों ने पशु पालने ही छोड़ दिये हैं और उन्हें औने-पौने दामों पर बेचा जा रहा है।
डॉ0 कौड़ा, जो पिछले 10 वर्षों से भी अधिक समय से बी टी कॉटन पर अनुसंधान कर रहे हैं ने बताया कि बी टी कॉटन आने के बाद ग्रामीण इलाकों इंसानों में हार्ट अटेक, लकवा और सांस की तकलीफ, एलर्जी, जैसी जानलेवा बीमारियों के साथ त्वचा रोग  बढ़ रहे हैं। ये बीमारियां उन लोगों में अधिक पायी जा रही हैं जो या तो बी टी कॉटन के खेतों में काम करते हैं या इनके आसपास रहते हैं या बी टी कॉटन का चारा खाने वाले पशुओं का दूध पीते हैं। डॉ0 कौड़ा ने आंध्र प्रदेश के पशु पालन विभाग की वर्ष 2006 और 2007 की प्रयोगशाला रिपोर्टों और मीडिया रिलीज़ भी उसस्थित किसानों को दिखाये जिनके द्वारा बी टी कॉटन में हाईड्रोजन सायनाईड नामक घातक ज़हर और उससे हज़ारों पशुओं की मौतों की पुष्टि पांच वर्ष पहले ही की जा चुकी है। 
डॉ0 कौड़ा ने दावा किया कि हरियाणा के पशुपालन विभाग की रिपोर्ट में पिछले 7 वर्षों में प्रदेश में ऊ न उत्पादन के लिए भी बी टी कॉटन ही जिम्मेदार है क्योंकि खेतों में बी टी कॉटन की की चुगाई के बाद उसमें भेड़ों को चरने के लिए छोड़ा जाता है।
डॉ0 क ौड़ा ने दावा किया कि उन्होंने अपने अनुसंधान में यह पाया है कि भेड़ें बी टी कॉटन के पत्तों आदि को खाकर कुछ घंटों में ही मर जाती हैं और जो भेड़ें बच जाती हैं उनके स्वास्थ्य में गिरावट और बांझपन, गर्भपात आदि की शिकायत देखी जा रही है। यही नहीं जो भेड़ – बकरियां एक बार बी टी कॉटन के पत्ते खा लेती हैं उनके बच्चे भी काफ़ ी बड़ी संख्या में कमज़ोर और छोटे पैदा होते हैं और उनमें से बहुत से बच्चे मर जाते हैं। यही समस्या बकरियों, गायों और भैसों में भी देखी जा रही है।
डॉ0 कौड़ा ने सरकार से अपील की है कि वह बी टी कॉटन पर तुरन्त रोक लगाये और इसमें ज़हर होने के बारे में जानकारी आम जनता और किसानों को दें जिससे जान-माल के नुकसान को रोका जा सके।
(सुधीर कुमार कौड़ा)
संयोजक, किसान बचाओ आंदोलन
संलग्र:  बी टी कॉटन को ज़हरीला और जानलेवा प्रमाणित करने वाली सरकार की रिपोर्टें और मीडिया रीलीज़ जिन्हें आप किसान बचाओ आंदोलन की वेब साईट पर भी देख सकते हैं। जिन किसानों के पशु मरे हैं उनके वीडियो डब्ल्यु डब्ल्यु डब्ल्यु डॅाट सेव फ ़ारमर डॉट इन्फ़ ो पर उपलब्ध हैं।
किसान बचाओ आंदोलन, 10 सी फ्रे न्ड्ज़ कॉलोनी हिसार-125 001        दूरभाष: 01662-229163   वेब साईट: डब्ल्यु डब्ल्यु डब्ल्यु डॅाट सेव फ ़ारमर डॉट इन्फ़ ो 
संलग्र 1: आंध्र प्रदेश के पशु पालन विभाग की वर्ष 2006 और 2007 की प्रयोगशाला रिपोर्टों में बी टी कॉटन में हाईड्रोजन सायनाईड नामक घातक ज़हर की पुष्टि होती है। बी टी कॉटन में पौधे में मिले हाईड्रोजन सायनाईड नामक से मनुष्य या जानवर कुछ सेकेन्ड में मर सकता है।  बी टी कॉटन से पशुओं केे मरने की पुष्टि करती आन्ध्र प्रदेश सरकार की मीडिया घोषणा। 
संलग्र 2: बी टी कॉटन से पशुओं केे मरने की पुष्टि करती आन्ध्र प्रदेश सरकार की मीडिया घोषणा। 
ये संलग्र ई-मेल में अलग से भेजे गये हैं या इन्हें वेब साईट पर देखें
श्रीमद्भागवत कथा का श्रवण करने से ही मोक्ष की प्राप्ति हो जाती है
सिरसा। श्रीमद्भागवत कथा का श्रवण करने से ही मोक्ष की प्राप्ति हो जाती है। यह बात गत दिवस गांव चाडीवाल के श्री नीलकंठ शिव मंदिर में स्वामी हंसगिरी जी महाराज हरिद्वार वाले के तपोवन में आयोजित संगीतमय रामकथा एवं श्रीमद्भागवत कथा में प्रवचन करते हुए वृंदावन से पधारे कथावाचक ब्रह्मऋषि श्री श्याम सुंदर जी शास्त्री ने सैकड़ों भक्तों को कहे। इस मौके पर प्रदेश कांग्रेस कमेटी प्रनिनिधि होशियारी लाल शर्मा साप्ताहिक श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान यज्ञ में बतौर मुख्यअतिथि पहुंचे। यहां पहुंचने पर श्री शर्मा का स्मृति चिन्ह भेंट करके अभिनंदन किया गया। लोगों को संबोधित करते हुए श्री शर्मा ने कहा कि श्रीमद्भागवत में लिखे विचार आज भी प्रासंगिक है। श्रीमद्भागवत अपने आप में संपूर्ण ज्ञान है कि बात कहते हुए उन्होंने कहा कि इंसान की आत्म संतुष्टि तभी हो सकती है जब वह इस प्रकार के धार्मिक कार्यक्रमों में जाये। इस मौके पर श्री कृष्ण के जन्म की झांकी भी पेश की गई जिसमें वासुदेव द्वारा एक टोकरी में श्री कृष्ण को जन्म के उपरांत कारागर से ले जाने का दृश्य पेश किया गया। झांकी को देखकर पंडाल में मौजूद भक्त श्री कृष्ण के गीत पर झूम उठे। इस दौरान श्री शर्मा ने 11 हजार रूपये की सहयोग राशि श्री मद्भागवत कथा के सफल आयोजन हेतू दान की। 6 से 12 जृन को प्रति दिन दोपहर दो से छ: बजे तक संगीतमय राम कथा एवं श्रीमद्भागवत कथा का आयोजन किया गया। वही कथा के उपरांत 13 जून सोमवार को विशाल भंडारे का आयोजन भी किया जाएगा। इस मौके पर गोपीराम चाडीवाल, राजेश चाडीवाल, बृजदान चारन, संगीत कुमार, रणबीर बैनीवाल, महाबीर, कृष्ण, पं. नत्थूराम, देवीलाल, खुशीराम, सोनी, खेताराम बैनीवाल, मनीराम बैनीवाल सहित अनेक लोग मौजूद थे। 
चूरापोस्त के साथ संजय पुत्र मदनलाल निवासी मुक्तसर काबू
सिरसा। सदर डबवाली पुलिस ने गांव अबूबशहर क्षेत्र से 900 ग्राम चूरापोस्त के साथ संजय पुत्र मदनलाल निवासी मुक्तसर को काबू किया। वहीं रानियां पुलिस ने नकौडा बाजार निवासी राकेश पुत्र जगदीश को 1010 रूपए की सट्टाराशि व पर्चियों सहित काबू किया। शहर सिरसा पुलिस ने पुरानी ट्रक यूनियन से जगदीश पुत्र रोशन निवासी अनाजमंडी तथा राकेश पुत्र शेर सिंह निवासी खैरपुर को 2800 रूपए की जुआ राशि व ताश सहित काबू किया। एक अन्य घटना में शहर सिरसा पुलिस ने ही पुरानी हाउसिंग बोर्ड क्षेत्र से जुआ खेलने के आरोप में राजकुमार पुत्र गणेश निवासी इंद्रपुरी मौहल्ला तथा प्रदीप पुत्र लेखराज निवासी पुरानी हाउसिंग बोर्ड कालोनी को 3800 रूपए की नकदी व ताश सहित काबू किया। 
डा. के.वी.सिंह 14 जून को डबवाली आयेगें
मण्डी डबवाली 13 जून
डा. के.वी.सिंह 14 जून को डबवाली आयेगें। यह जानकारी देते हुए उनके निजी सचिव बजरंग थालोड़ ने बताया कि डा. सिंह मंगलवार को डबवाली के सिरसा रोड़ स्थित कांग्रेस कार्यालय में प्रात: 10 बजें से सांय 5 बजे तक जनसमस्याऐं सुनेंगे तथा उनका मौके पर ही समाधान करेगे। 
मुंबई के पत्रकार ज्योतींद्र डे की हत्या के विरोध में आज जिला के सभी पत्रकारों ने अपना रोष जताया
सिरसा। मुंबई के पत्रकार ज्योतींद्र डे की हत्या के विरोध में आज जिला के सभी पत्रकारों ने अपना रोष जताया। हत्यारोपियों की गिरफ्तारी के लिए पत्रकारों के एक प्रतिनिधि मंडल ने उपायुक्त से मुलाकात की और राज्यपाल के नाम एक ज्ञापन सौंपा।
इससे पूर्व मीडिया सेंटर में एक बैठक की गई जिसमें इस घटनाक्रम की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए पत्रकार ज्योतींद्र डे की आत्मिक शांति के लिए दो मिनट का मौन धारण कर ईश्वर से प्रार्थना की। इस अवसर पर सभी पत्रकारों ने कहा कि पत्रकारों पर आए दिन हो रहे हमले इस बात का प्रमाण है कि असामाजिक तत्व सच को बर्दाश्त नहीं कर पा रहे हैं।  उन्होंने कहा कि ऐसे कभी सच को दबाया नहीं जा सकेगा और भारतीय संविधान के मुताबिक प्रत्येक पत्रकार एवं कलमकार को सच लिखने का हक है। राज्यपाल को प्रेषित ज्ञापन के जरिए मांग की कि पत्रकार ज्योतींद्र डे के हत्यारों को शीघ्र ही गिरफ्तार किया जाए और हमारी इस भावना को महाराष्ट्र सरकार तक पहुंचाया जाए। इस अवसर पर मीडिया सेंटर के संयोजक नंदकिशोर लढा, हरियाणा यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष अरुण भारद्वाज, संसार भूषण दिवाकर, राजेंद्र ढाबां, भूपेश गोयल, अंशुल छत्रपति, भास्कर मुखर्जी, राजकमल कटारिया, सोनू लढा, प्रवीन कौशिक, हितेष सहित सभी पत्रकार मौजूद थे। 
देश व प्रदेश की कांग्रेस सरकार जनता के विकास के लिए वचनबद्ध है
सिरसा,13 जून: देश व प्रदेश की कांग्रेस सरकार जनता के विकास के लिए वचनबद्ध है, सिरसा संसदीय क्षेत्र में चल रही विकास योजनाओं के लिए धन की कमी आड़े नहीं दी जाएगी। यह बात सिरसा लोकसभा क्षेत्र के सांसद एवं अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के राष्ट्रीय सचिव डा. अशोक तंवर ने अपने निवास पर समस्याएं सुनने के बाद लोगों को सम्बोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार गांव व शहर में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध करवा रही है। इसी कड़ी में जिला के गांव पंजुआना में प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा द्वारा 71 करोड़ 23 लाख रूपए की लागत से नहरी पानी आधारित जलघर की आधारशिला रखी गई है। इन जलघरों के निर्माण से सिरसा शहर के लोगों को पर्याप्त मात्रा में पीने का पानी मिलेगा और यह पानी पूरी तरह प्योरिफाइड होगा। हरियाणा में यह जलघर अपनी तरह का जलघर होगा, जहां लोगों को आरओ सिस्टम आधारित पानी मिलेगा। उन्होंने कहा कि सरकार लोगों को स्वास्थ्य, शिक्षा जैसी मूलभूत सुविधाएं प्रदान कर रही है। सिरसा जिला में 6 वर्ष के शासनकाल में करोड़ों रुपए के विकास करवाए गए। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा जननी शिशु सुरक्षा योजना, मनरेगा, भारत निर्माण योजना, प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजनाओं की पूरे देश में प्रशंसा की जा रही है। केंद्र व प्रदेश सरकार द्वारा सड़कों का निर्माण,स्वच्छ पेयजल,बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं के लिए कड़े कदम उठाए जा रहे है जिन पर भी करोड़ों रुपए की धनराशि खर्च की जा रही है। इसके अलावा जिला के लोगो को बेहतर बिजली सप्लाई के लिए नए बिजली घर बनाए गए हैं। आज बिजली घरो की संख्या 24 से बढकर 99 हो गई है। बिजली सम्प्रेशण में भी सुधार किया गया है। उन्होंने कहा कि केंद्र व प्रदेश सरक ार ने समाज के सभी वर्गों के कल्याण के लिए अनेक योजनाएं लागू की है। यूपीए अध्यक्षा श्रीमति सोनिया गांधी के नेतृत्व, प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह के कुशल मार्गदर्शन व महासचिव राहुल गांधी की ओजस्वी सोच से प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने प्रदेश को नंबर वन बनाया है। उन्होंने कहा कि आज सिरसा संसदीय क्षेत्र विकास के मामले में काफी आगे है। सिरसा ने अपनी एक अलग पहचान कायम की है।  सांसद तंवर ने कहा कि कांग्रेस पार्टी के पास आज कुशल नेतृत्व व अच्छी नीतियां है, जिनकी बदौलत आज पूरे देश व प्रदेश में एक समान रूप से सभी क्षेत्रों में विकास कार्य करवाए जा रहें है। शहरों के साथ-साथ गांवों के विकास में भी पूरा पैसा खर्च किया जा रहा है। प्रदेश बिजली के मामले में आत्म निर्भर बनने जा रहा है और आने वाले दिनों में ग्रामीण क्षेत्रों में 20 से 22 घंटे बिजली आपूर्ति की जाएगी। उन्होंने कहा कि पेयजल व्यवस्था पर भी आज प्रदेश में करोड़ो रूपए खर्च किए जा रहे है, वही किसानों को भी फसलों के लिए अंतिम टेल तक पानी की समुचित व्यवस्था की जा रही है। 
                           इस अवसर पर उनके साथ पार्टी के जिलाध्यक्ष मलकीत सिंह खोसा,औमप्रकाश केहरवाला, भूपेश मेहत्ता, सुरजीत भावदीन, आनन्द बियाणी, नवीन केडिया, राज कुमार बजाज, सुरेन्द्र दलाल, डा. सुभाष जोधपुरिया, तेजभान पनिहारी, सांसद के निजी सचिव परमवीर सिंह सहित काफी संख्या में लोग उपस्थित थे। 
हुड्डा व तंवर ने अपनी कार्यशैली से जीता लोगों का दिल:भूपेश
सिरसा। ब्लाक कांग्रेस कमेटी सिरसा शहरी के प्रधान भूपेश मेहता ने कहा कि मुख्यमंत्री चौ. भूपेंद्र सिंह हुड्डा व सिरसा के सांसद डा. अशोक तंवर ने अपनी विकासशील कार्यशैली के बलबूते पर प्रदेश और जिलावासियों का दिल जीता है। मुख्यमंत्री श्री हुड्डा ने प्रदेश के सभी वर्ग के लोगों के कल्याण के लिए अनेक योजनाएं लागू की है, जिनका सभी वर्गों को भरपूर लाभ मिल रहा है। श्री मेहता आज स्थानीय अनाजमंडी स्थित अपने कार्यालय में विभिन्न गांवों से आए लोगों की जनसमस्याएं सुन रहे थे। इस मौके पर उनके साथ औमप्रकाश एंथोनी, विनोद उपाध्याय, प्रेम सैनी, रणजीत भंभूर, मनजीत कंवरपुरा, धीरा सिंह खाजाखेड़ा, वेदप्रकाश कुसुंभी, विजय कंडारा, विद्यार्थी, सुरेंद्र कौर, कलावती देवी, रामरत्न इंदौरा, सूरज खनगवाल, जग्गी बाजेकां सहित अनेक कार्यकर्ता उपस्थित थे। ग्रामीणों की जनसमस्याएं सुनते हुए भूपेश मेहता ने कहा कि श्री हुड्डा ने अपनी विकासशील सोच का परिचय देते हुए प्रदेश के सभी इलाकों में एक समान विकास करवाया है, जिसके परिणाम स्वरूप आज पूरे राज्य के लोग आए दिन उनके सम्मान में समारोह आयोजित कर रहें है। इन सम्मान समारोह के माध्यम से भी श्री हुड्डा संबधित इलाकों को लाखों करोड़ों रूपयों की विकास की सौगातें दे रहे है। उन्होने कहा कि मुख्यमंत्री श्री हुड्डा ने पिछले सात सालों में सिरसा जिला में करीब 2200 करोड़ रूपए से अधिक की विकास योजनाओं को क्रियांवित किया है। सांसद श्री अशोक तंवर के नेतृत्व में जिला में अनेक विकास परियोजनाओं को अमली जामा पहनाया गया है, जिनमें रेलवे ओवरब्रिज, सिरसा बाईपास, ओटू झील निर्माण, चौ. देवीलाल विश्वाविद्यालय का संपूर्ण विकास इत्यादि शामिल है। इस अवसर पर श्री मेहता ने कार्यकर्ताओं से आह्वान किया कि वे प्रदेशसरकार की नीतियों को जनजन तक पहुंचाए ताकि अधिक से अधिक लोग उनका लाभ उठा सके। इस मौके पर श्री मेहता ने लोगों की समस्याएं सुनकर उनके समाधान के लिए संबधित अधिकारियों को दिशा निर्देश दिए। 

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: