>प्रादेशिक समाचारः-23.04.2011

24 अप्रैल

>

मुख्य समाचारः
* गांधी आवास योजना में शहरी लोगों को 50 प्रतिशत धनराशि केंद्र सरकार उपलब्ध करवायेगी।
* भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद ने कृषि वैज्ञानिकों से देश में उपलब्ध जल, भूमि आदि संसाधनों का सही आंकलन कर रिपोर्ट तैयार करने का आह्वान किया।
* टी.बी के गम्भीर मरीजों की जांच के लिए करनाल में राज्य की पहली लैब स्थापित।
* उच्चतम न्यायालय द्वारा खाप पंचायतों को गैर कानूनी करार दिये जाने के फैसले को लेकर सर्वजातिय सर्वखाप महापंचायत कल जींद में।

केंद्रीय आवास सांस्कृतिक एवं शहरी गरीबी उन्मूलन मंत्री कुमारी शैलजा ने कहा है कि राजीव गांधी आवास योजना में शहरों में लोगों को 50 प्रतिशत धनराशि केंद्र सरकार द्वारा उपलब्ध करवाई जाएगी तथा अन्य 50 प्रतिशत राशि राज्य सरकार नगर निगमों व पात्रों द्वारा स्वयं वहन की जाएगी। कुमारी शैलजा आज जगाधरी में कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं व आम लोगों की समस्याएं सुन रही थी। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में गरीब वर्गो के लिए काफी योजनाएं है परन्तु शहरी क्षेत्रों में गरीब वर्गो के लिए योजनाएं काफी कम थी और केंद्र में कांग्रेस सरकार आने पर शहरी क्षेत्रों में भी गरीब वर्गो के लिए कई महत्वपूर्ण योजनाएं शुरू की गई हैं केंद्रीय मंत्री ने लक्कड़ माजरा गांव के लोगों की समस्याओं को उपायुक्त और विधायक राजपाल भूखडी द्वारा सुलझाए जाने के लिए तीन दिन का समय दिया है।

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के उपमहानिदेशक डॉ ए के सिंह ने देश में उपलब्ध जल भूमि जैसे प्राकृतिक संसाधनों का सही आकलन कर रिपोर्ट तैयार करने के लिए वैज्ञानिकों का आह्वान किया हैं डा सिंह आज हिसार कृषि विश्वविद्यालय में लवण प्रभावित भूमि के प्रबंधन एवं कृषि में खारा जल प्रयोग पर अखिल भारतीय समन्वित अनुसंधान परियोजना की प्रिवार्षिक कार्यशाला के उद्घटन समारोह में बोल रहे थे। उनहोंने कहा कि ग्लोबल वार्मिग के कारण तापमान में हो रही वृद्धि, गिरीते भू जल स्तर तटवर्ती क्षेत्रों में सुनामी व समुद्री जल के भूमि मे रिसाव से खराब हो रही भूमि कृषि पैदावार के लिए चुनौतियां पैदा कर रही है। उन्होंने कहा कि आज कृषि में खारे जन के प्रयोग एवं जल प्रबंधन के लिए डिप सिंचाई विधि पर जोर दिया जा रही है। डॉ सिंह ने कहा कि जल के संकट को दूर करने के लिए कृषि में वेस्ट वाटर का प्रयोग एक समाधान हो सकता हैं जिस पर वैज्ञानिकों को अनुसंधान करना चाहिए। कुलपति डॉ के एस खोखर ने अपने अध्यक्षीय भाषण में कहा कि निकट भविष्य में देश ही नही अपितु विश्व में जल संकट उत्पन्न होने वाला है। उन्होंने पंजाब व हरियाणा का उदाहरण देते हुए कहा कि इन राज्यों में कृषि में जल का सबोधित प्रयोग हो रहा है। जिससे भू जल स्तर में गिरावट व भूमि में लवणता की समस्या बढ़ रही है। उन्होंने इन राज्यों में पानी की बचत के लिए धान, गेहू फसल चक्र में बदलाव करने की आवश्यकता जताई। डॉ खोखर ने कहा कि भूमि में लवणता तथा खारे जल के प्रबंधन में इजरायल में
प्रयोग की जा रही सिंचाई प्रणाली बहुत कारगत साबित हो सकती है।

निदेशालय मौलिक शिक्षा विभाग हरियाणा ने उन महिला जे बी टी अतिथि अध्यापिकाओं जिनका विवाह उनकी नियुक्ति के बाद हुआ है और अपना जिला बदलवाना चाहती है को 29 अप्रैल को पंचकूला के सैक्टर 7 स्थित शिक्षा सदन में कांउसलिंग के लिए आमंत्रित किया है। एक सरकारी प्रवक्ता ने चंडीगढ़ में बताया कि ऐसी सभी अध्यापिकाएं मूल शैक्षणिक और अन्य दस्तावेजों के साथ अपनी शादी का पंजीकरण प्रमाणपत्र भी लाए अन्यथा उनके मामले पर विचार नही किया जाएगा। उनके आवेदन निर्धारित प्रोफार्मा में हाने चाहिए और इन्हें संबंधित जिला शिक्षा अधिकारी से प्रतिहस्ताक्षीत करवाया गया हो। उन्होंने बताया कि अवदेन फार्म विभाग की वैबसाइट पर उपलब्ध है।

महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारन्टी योजना मनरेगा व अन्य ग्रामीण विकास योजनओं के क्रियान्वयन में युवाओं की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए जिला सिरसा में भारत निर्माण के 2000 वॉलिन्टयर बनाए जाएंगे जो गांव गांव जाकर सरकार की योजनओं के बारे में जनसाधारण को जानकारी देंगे। एक सरकारी प्रवक्ता ने चंडीगढ़ में बताया कि सरपंच कल रविवार को राष्ट्रीय पंचयात दिवस के उपलब्ध में संबंधित गांवों में ग्राम सभाओं का आयोजन कर गांव के विाकस की प्राथमिकताएं तय करें और प्रस्ताव के रूप में जिला प्रशासन के पास भेजे ताकि उन प्रस्तावों पर विकास कार्यो के लिए स्वीकृति प्रदान की जा सके। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय पंचायत दिवस समारोह में ग्राम सभाओं का थीम रखा गया है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक गांव में कम्प्यूटर उपलब्ध करवाया जाएगा और मनरेगा के तहत गांव में शुरू पेयजल उपलब्ध करवाने और सफाई की व्यवस्था को प्राथमिकता दी जाएगी। इसके साथ साथ ग्रामीण लोगों को विभिन्न योजनाओं के प्रति प्रेरित करने के लिए जिला प्रशासन डॉक्यूमेंटरी भी तैयार करेगा जिसका प्रदर्शन गांव गांव में किया जाएगा।

टी बी के गंभीर मरीजों की जांच के लिए हरियाणा की पहली प्रयोगशाला करनाल में 70 लाख रूपये की लागत से स्थापित की गई हैं। इसका उद्घाटन स्वास्थ्य विभाग के महानिदेशक डॉक्टर नरवीर सिंह ने आज करनाल में किया। इस लैब में राज्य भर से टी बी के गंभीर रोगियों के नमूनों की जांच की जाएगी। भारत सरकार से मान्यता प्राप्त यह राज्य की पहली लैब है इससे पहले ऐसे मरीजों के नमूने जॉच के लिए दिल्ली भेजे जाते थे और उनकी रिपोर्ट आने में 6 महीने का वक्त लगता था परन्तु अब मरीजों को अपनी जॉच रिपोर्ट दो महीने के भीतर मिल सका करेंगी। महानिदेशक ने पत्रकारों के साथ बातचीत में कहा कि इस प्रयोगशाला में उन मरीजों की भी जांच की जाएगी जो डॉटस के इलाज के बाद भी ठीक नही हो पाते।

खाप पंचायतों को गैर कानूनी करार दिए जाने के सर्वोच्च न्यायालय के फैसले को खाप पंचायत प्रतिनिधियों ने दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया हैं इसे लेकर कल प्रदेश की सभी खाप पंचायतें जींद में चर्चा के लिए इकट्ठी होगी। सर्वजातीय सर्वखाप महापंचायत हरियाणा के प्रदेश प्रवक्ता अखिल भरतीय जाट महासभा के प्रदेश अध्यक्ष श्री ओम प्रकाश मान ने आज भिवानी में बताया कि खाप पंचायतें समाज निर्माण के लिए सदियों से काम रहीं है जिन्हे 643 ईस्वी में राजा हर्षवर्धन ने मूल स्वरूप एवं कानूनी मान्यता प्रदान की । उन्होंने बताया कि आज लाखों मामलें विभिन्न अदालतों में चल रहे है। यदि खाप पंचायतें नहीं रही तो इन मामलों की संख्या बढ़कर करोड़ों में हो जाएगी।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: